स्पेन के विश्व कप से बाहर होने पर इनिएस्टा ने लिया संन्यास

मेजबान रूस ने फीफा विश्व कप 2018 में अपना स्वप्निल अभियान जारी रखते हुए रविवार को 2010 के चैंपियन स्पेन को पेनल्टी शूटआउट में 4-3 से हराकर 48 साल बाद क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया। स्पेन इस विश्व कप टूर्नामेंट के प्रबल दावेदारों में से एक था, जिसके बाहर होने के बाद उसके दिग्गज मिडफील्डर आंद्रेस इनिएस्ता ने अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल से संन्यास का ऐलान कर दिया।

अतिरिक्त समय के बाद भी दोनों टीमों का स्कोर 1-1 से बराबर रहा और फिर रूस ने पेनल्टी शूटआउट में स्पेन को 4-3 से मात देकर क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह पक्की की। इनिएस्ता ने अपने संन्यास की घोषणा करते हुए कहा, यह सच है कि राष्ट्रीय टीम के साथ यह मेरा आखिरी मुकाबला था। यह दिन मेरे करियर का सबसे दुखद है। इस दिग्गज फुटबॉलर ने स्पेन के लिए 131 मैच खेले और 13 गोल किए, जिसमें 2010 विश्व कप के फाइनल में नीदरलैंड्स के खिलाफ किया गया गोल शामिल है।

स्पेन के कोच फर्नांडो हिएरो ने कहा, मैं हमारे इतिहास के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक इनिएस्ता को बधाई देता हूं। वह एक बेहद शानदार खिलाड़ी हैं। जिस तरह उन्हें मैदान पर दूसरे हाफ में मौका दिया और उन्होंने जिस अंदाज में मैदान पर एंट्री की। उसे देखकर ऐसा लगा जैसे वह अपना पहला मैच खेलने उतरे हो। मैं उनका तहे दिल से शुक्रिया अदा करता हूं। अपने सटीक पास और कुशल मूव से इनिएस्ता स्पेन की उस टीम का अहम हिस्सा बने जिसने कुछ समय पहले तक अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल में दबदबा बनाया हुआ था, लेकिन कल टीम लगातार तीसरे बड़े टूर्नामेंट से निराशाजनक तरीके से बाहर हो गई।

विश्व कप 2010 फाइनल में विजयी गोल दागने वाले इनिएस्ता पहले ही संकेत दे चुके थे कि यह राष्ट्रीय टीम के साथ उनका अंतिम टूर्नामेंट होगा और मॉस्को में रविवार को अंतिम 16 के मैच के बाद उन्होंने संन्यास लेने की पुष्टि की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.