भोपाल/मंदसौर।

मध्यप्रदेश में एक से दस जून तक किसानों द्वारा आंदोलन किया जाना है। इसके लिए प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट हो गया है। पिछली गलतियों से सबक लेते हुए इस बार प्रशासन द्वारा पिछले साल आंदोलन में शामिल रहे 11 हजार लोगों को नोटिस जारी किया गया है। वही सभी से 25-25 हजार रुपए का बांड भी भराया जा रहा हैं।इसके बाद जो भी नियम तोड़ेंगे या फिर असामाजिक गतिविधियों में लिप्त होंगे उनके 25 हजार रुपए भी जब्त होंगे और जेल भी जाएंगे। इन्हें चेतावनी के लिए रेड कार्ड भी दिए जा रहे हैं।इस बांड प्रक्रिया पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ ने सवाल उठाए है। उन्होंने ट्वीटर के माध्यम से सरकार पर हमला बोला है और सरकार द्वारा उठाए गए इस कदम को शर्मनाक बताया है।

कमलनाथ ने ट्वीट के माध्यम से लिखा है कि कितना शर्मनाक है कि प्रदेश का किसान पुत्र  मुखिया जो किसानों को भगवान और ख़ुद को पुजारी कहता है, उसकी सरकार उन्ही भगवान से कुख्यात अपराधी की तरह शांति भंग के बॉन्ड भरवा रही है। मंदसौर गोलीकांड में मृत किसानो के परिजनो तक को नोटिस भेज दिये गये है। शर्मनाक

बता दे कि 1 से 10 जून तक किसान आंदोलन, 6 जून को राहुल गांधी की सभा, 30 मई को मुख्यमंत्री की सभा और 27 मई को आरक्षण के विरोध में करणी सेना की रैली और सभा है।जिसको लेकर सांप्रदायिक दंगा भड़काने की कोशिश की जा सकती है, चुंकी रमजान का महिना भी चल रहा है, इसलिए प्रशासन कोई लापरवाही नही बरतना चाहता और इसी को देखते हुए ये कदम उठाए जा रहे है।इसके लिए पूरे क्षेत्र में 20 ड्रोन कैमरों से निगरानी भी रखी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.