नई दिल्ली, जनता दल यू के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव 16 अगस्त को विपक्ष का सम्मेलन कर रहे हैं। वे पिछले करीब एक साल से साझी विरासत का सम्मेलन कर रहे हैं। पहले वे दिल्ली में इस तरह का सम्मेलन कर चुके हैं। उसके बाद उन्होंने मध्य प्रदेश और राजस्थान में इस तरह का आयोजन किया, जिसमें विपक्षी पार्टियों के नेता शामिल हुए। कांग्रेस की ओर से वरिष्ठ नेताओं ने उनके सम्मेलन में शिरकत की।

इस बार वे 15 अगस्त को लाल किले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस कार्यकाल के आखिरी संबोधन के अगले दिन 16 अगस्त को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में विपक्ष का सम्मेलन कर रहे हैं। इस बार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी इसमें शामिल होंगे। उनके अलावा बाकी वो सारे नेता होंगे, जो पहले भी उनके कार्यक्रम में शामिल होते रहे हैं। कहा जा रहा है कि उनके सम्मेलन में असली विपक्षी पार्टियां शामिल होंगी।

इसमें तेलुगू देशम पार्टी को नहीं बुलाया गया है। उस पर अभी विपक्षी पार्टियां भरोसा नहीं कर रही हैं। कुछ और पार्टियों को अभी वाच लिस्ट में रखा गया है। कांग्रेस के अलावा शरद यादव के हर सम्मेलन में सीपीआई और सीपीएम के नेता जरूर होते हैं। इस बार भी दोनों के महासचिव सुधाकर रेड्डी और सीताराम येचुरी शामिल होंगे। एनसीपी और तृणमूल कांग्रेस के नेता भी इसमें हिस्सा लेंगे और सपा व बसपा को भी बुलाया गया है। मोटे तौर पर विपक्षी गठबंधन इन्हीं पार्टियों को लेकर बनना है। इनके अलावा छोटी पार्टियां होंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.