भोपाल। साल 2017 में आयोजित प्रदेश की सबसे बड़ी परीक्षा पटवारी भर्ती परीक्षा पर परिणाम आने के बाद और नियुक्ति से ठीक पहले हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है| 9235 पटवारियों के पदों के लिए यह भर्ती परीक्षण पिछले साल व्यापमं (पीईबी)के माध्यम से कराई गई थी| टवारी भर्ती  में आरक्षण को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी। याचिका की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने पटवारी नियुक्ति स्थगित करने के आदेश जारी किए हैं।  वहीं हाईकोर्ट के आदेश के परिपालन में राज्य शासन ने 26 मई को दस्तावेजों की सत्यापन कार्यवाही भी स्थगित कर दी है, इस सम्बन्ध में भी आदेश जारी किये गए हैं| गौरतलब है कि इस भर्ती परीक्षा के लिए मूल दस्तावेजों के सत्यापन व काउंसलिंग की तिथि 26 मई 2018 तय की गई थी।

साल 2017 में पीईबी के माध्यम से 9 हजार से अधिक पदों पर पटवारियों की भर्ती कराई गई थी। जिसका परिणाम अप्रैल में आने के बाद नियुक्ति की तैयारी की जा रही थी| रिजल्ट जारी होने के बाद आयुक्त भू-अभिलेक्ष एवं बंदोबस्त ने पटवारियों की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। इस बीच हाईकोर्ट में इस आश्य की रिट पिटीशन क्रमांक 7933/2018 दायर की गई थी कि पटवारियों की नियुक्ति में दिव्यांगों का आरक्षण नियमानुसार नहीं दिया गया है। हाईकोर्ट में रिट पिटीशन दायर होने के कार्यालय आयुक्त भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त ने आरक्षण की त्रुटि को सुधार लिया गया। इसके बाद सभी कलेक्टरों को पटवारियों की काउंसलिंग के आदेश दिए। जिसके तहत 26 मई को चयनित पटवारियों के दस्तावेजों की काउंसलिंग होना था। इस बीच मप्र हाईकोर्ट द्वारा रिट पिटीशन की सुनवाई के बाद आदेश जारी कर पटवारी नियुक्ति स्थगित कर दी है। ऐेसे में आयुक्त भू-अभिलेक्ष एवं बंदोबस्त ने सभी कलेक्टरों को सूचना जारी की है कि दस्तावेज सत्यापन स्थगित किया जा रहा है|

आयुक्त, भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त,  एम सेलबेंद्रम ने बताया रिट पिटीशन की सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने पटवारी नियुक्ति स्थगित कर दी है। ऐेस में दस्तावेजों की काउंसलिंग भी रोक दी गई है। कलेक्टरों को इस संबंध में अलग से सूचना जारी की जाएगी।

सरकार को हाई कोर्ट से निर्देश ,स्थगित की जाए दस्तावेजों के सत्यापन की प्रक्रिया
मध्यप्रदेश ही नहीं समूचे देश में इन दिनों शिक्षित बेरोजगारों की बाढ़ सी आ गई है सरकारें जुमले बाजी करने में मस्त है युवा दो जून की रोटी में पढ़ लिख कर कोई चाय बेच रहा है तो कोई पकोड़ा बना रहा है देश में माहौल तो ऐसा बना है की मानो विकास ही विकास और सबका साथ भी है जुमले में केंद्र सरकार ने रेलवे की भर्ती निकाली चार साल बाद मगर उम्र की सीमा का अड़ंगा लगा दिया दो साल भर्ती की उम्र में कमी कर दी मध्यप्रदेश में व्यापम घोटाले के बाद दर्जनों युवा युवती जेल की हवा खा रहे है कुछ खा लिए वही इसी मामले में करीब पचास से ज्यादा लोगों की रहस्य्मयी हालत में मौत हो चुकी दिन बीत गए बीत रहे है जांच भगवान् भरोसे चल रही है , कुछ लेकर पटवारी की भर्ती परीक्षा आयोजित हुई थी जिसमे प्रदेश के युवाओं ने भाग लिया और चयन सूचि भी जरी हो चुकी थी सिर्फ दस्तावेज का सत्यापन 26 मई को होना बाकि रह गया था ,अब बताया जा रहा है की उसमे भी मध्यप्रदेश कोर्ट ने एक याचिका की सुनवाई करते हुए उस नियुक्ति को स्थगित कर दी है
आज दिन भर से यह आदेश शोसल मीडिया में खूब वायरल हो रहा है जिसमे कहा जा रहा है की
“माननीय उच्च न्यायलय जबलपुर द्वारा रिट याचिका में पटवारी नियुक्ति स्थगित किये जाने के कारण दिनांक 26 मई 2018 को आयोजित होने वाली दस्तावेज सत्यापन की करवाई स्थगित की जाती है. आगामी तिथि की सूचना पृथक से दी जाएगी – आयुक्त, भू-अभिलेख एवं बंदोबस्त, मध्य प्रदेश ”

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.