भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के कॉलेज केंपस अब नशे का अड्डा बन गए हैं। पिछले दिनों बेतूल के यश पाठे सुसाइड केस में इस कारोबार की कलई खुल गई थी। लक्ष्मीनारायण मेडिकल कॉलेज में पढ़ने वाले छात्र यश पाठे को ड्रग आदी व्यक्ति बनाया गया था और इसी प्रताड़ना के चलते उसने भी आत्महत्या कर ली थी । अब एक नया मामला सामने आया है।मध्यप्रदेश के कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के संसदीय क्षेत्र छिंदवाड़ा की युवती पूजा धुर्वे को उसके पिता ने यहां आईटीआई करने भेजा था परंतु वो ड्रग भी नशे की इस कदर आदि हुई की बीते रोज उसने आत्महत्या कर ली ।

शहर से लगे गुरैय्या कि रहने वाली थी छात्रा…..

स्थानीय पुलिस के अनुसार छिंदवाड़ा निवासी पिता रामंचद्र धुर्वे ने पुलिस को सूचना दी थी कि (बीडीए कॉलोनी) शहीद भगत सिंह कॉलोनी के अब्बास नगर में उनकी बेटी पूजा धुर्वे चौथी मंजिल पर रहती है। जब मृतिका के पिता उसके कमरे में गए तो पूजा दरवाजा नहीं खोल रही है और अंदर से बदबू आ रही है। मामले को संज्ञान लेते हुए रात करीब 12 बजे के आसपास पुलिस मौके पर पहुंची थी। इसके बाद पुलिस कि मौजूदगी में दरवाजा तोड़ा गया तो पूजा का शव फंदे से लटका मिला। पिता रामचंद धुर्वे का कहना है कि वह छिंदवाड़ा शहर के ही गुरैया के रहने वाले है। पूजा को उन्होंने करीब छह साल पहले आईटीआई करने भोपाल भेजा था। भोपाल में पढ़ाई के दौरान वह गांजा, चरस, पाउडर समेत अन्य नशे की आदी हो गई थी। पूजा की इन सब हरकतों से पूजा का सारा परिवार परेशान था । मृतक छात्रा के पिता रामचंद धुर्वे ने बताया कि उनकी बेटी पूजा भोपाल से घर भी बहुत कम जाती थी। आखिर सवाल उठता है की जिन बच्चों को उनके मां बाप इतनी आशा ,अपेक्षा के साथ भविष्य संवारने के लिए राजधानी भेजते है ,आओर वही राजधानी इन्हे मौत की आगोश में ले ले तो आखिर कौन पिता चाहेगा की ऐसी राजधानी भेजना ,
भोपाल के कालेज केम्पस बन चुके है नशे के अड्डे ……..
इस तरह की आये दिन होने वाली हृदयविदारक घटनाओं के बाद यह तो साफ़ हो गया है कि भोपाल शहर के लगभग सभी शैक्षणिक संस्थान जहां बाहर से छात्र पढ़ने के लिए आते हैं,यह अधिकाँश ड्रग माफिया की चपेट में हैं। यहां पर या तो प्रलोभन देकर या डरा धमकाकर छात्र-छात्राओं को नशे की लत लगाई जा रही है। पिछले दिनों बैतूल के यश पाठे सुसाइड केस में इसका खुलासा हो चुका है पर ताज्जुब कि बात है कि पुलिस ने अब तक इस दिशा में आगे कोई विशेष अभियान इस दिशा में शुरू नहीं किया है । ऐसा ही रवैय्या शैक्षणिक संस्थाओं के संचालक भी नशे के खिलाफ कोई कार्रवाई करते दिखाई नहीं दिए

51 thoughts on “भोपाल में फंदे पर झूली छिंदवाड़ा कि छात्रा”
  1. Hey! I could have sworn I’ve been to this blog before but after checking through some of the post I realized it’s new to me. Anyways, I’m definitely delighted I found it and I’ll be book-marking and checking back often!|

Leave a Reply

Your email address will not be published.