जैश-ए-मोहम्मद संगठन उसी मसूद अजहर ने खड़ा किया है, जिसे भारत ने कंधार विमान हाईजैक के बाद रिहा किया था. जैश कश्मीर में तो सक्रिय है ही साथ उसने सेना के उरी कैंप पर भी हमला किया था, जिसमें भारतीय सेना के 19 जवान शहीद हो गए थे.jaish e mohammad can make big attacks in India intelligence agencies issued alert for major attacks in India

क्या पाकिस्तान एक बार फिर भारत में मुंबई के 26/11 और पठानकोट एयरबेस जैसे बड़े आतंकी हमला कराने की फिराक में है? ये सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि देश की बड़ी खुफिया एजेंसियों ने सरकार को अलर्ट जारी किया है. इस अलर्ट के मुताबिक, आतंकी संगठन, जैश-ए-मोहम्मद अपनी एक ‘डीप-डाईविंग एंड स्वमिंग’ स्कॉवयड बना रहा है. इस स्कॉवयड को भारत के किसी बड़े नौसैनिक बेस या फिर युद्धपोत पर हमले के लिए तैयार किया जा रहा है.

 

कोई ‘स्पेशल मिशन’ लांच कर सकता है जैश

 

एबीपी न्यूज़ ने खुफिया एजेंसियों की वो रिपोर्ट देखी है, जिसमें कहा गया है कि कैसे आतंकी संगठन जैश अपने पाकिस्तान स्थित बहावलपुर मुख्यालय में ये ‘डीप डाइविंग एंड स्वमिंग’ दस्ता तैयार कर रहा है. इसमें साफ तौर से लिखा है कि जैश-ए-मोहमम्द भारत के ‘नेवल एसैट’ (संपदा या संपत्ति) पर हमला कर सकता है या फिर कोई ‘स्पेशल मिशन’ लांच कर सकता है. बहावलपुर पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में है. ये पहली बार है कि पाकिस्तान से संचालित आतंकी संगठन किसी मेरीन दस्ते को तैयार कर रहे हैं. इससे पहले ये खबरें जरूर आईं थीं कि लश्कर-ए-तैयबा ने अपना एक पैराग्लाइडिंग दस्ता तैयार किया है.

 

उरी कैंप पर जैश के हमले में शहीद हो गए थे 19 जवान

 

बता दें कि जैश-ए-मोहम्मद संगठन उसी मसूद अजहर ने खड़ा किया है, जिसे भारत ने कंधार विमान हाईजैक के बाद रिहा किया था. जैश कश्मीर में तो सक्रिय है ही साथ उसने सेना के उरी कैंप पर भी हमला किया था, जिसमें भारतीय सेना के 19 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले के बाद ही भारतीय सेना ने पाकिस्तान में घुसकर एलओसी पर सक्रिस लांच-पैडस पर सर्जिकल-स्ट्राइक की थी. इसके अलावा पठानकोट एयरबेस पर हमला भी जैश के आतंकियों की तरफ से ही अंजाम दिया गया था. ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा है कि क्या जैश एक बार फिर समंदर के रास्ते भारत के किसी नौसैनिक बेस पर हमला करना चाहता है? जैसा कि अजमल कसाब और उसके साथियों ने मुंबई हमले के दौरान किया था.

 

भारतीय नौसेना सतर्क, कड़े एक्शन लेने के आदेश जारी

 

गौरतलब है कि साल 2000 में अरब देश, यमन के अदन पोर्ट पर अमेरिका के एक युद्धपोत पर आतंकियों ने एक बोट से टक्कर मारकर हमला किया था. इस हमले में अमेरिका का युद्धपोत क्षतिग्रस्त हो गया था और 19 नौसैनिक मारे गए थे. इस तरह का कोई हमला भारत के किसी युद्धपोत पर ना हो इसके लिए भारतीय नौसेना ने अपने नौसैनिकों और मरीन कमांडोज़ को सख्त आदेश दे रखे हैं कि किसी भी छोटी बोट को अपने युद्धपोत के आसपास फटकने ना दें. और अगर कोई बोट करीब आती है तो उसके खिलाफ जरूरी कारवाई तुरंत की जाए. इसके साथ साथ नौसेना के सभी बेस पर साफ लिखा है कि अगर कोई घुसपैठ करता है तो उसे गोली से उड़ा दिया जाए.

 

संदिग्ध बोट को उड़ा देगी भारतीय नौसेना

 

भारतीय नौसेना के सूत्रों के मुताबिक, किसी भी संदिग्ध बोट को हार्बर में या फिर समंदर में किसी भी युद्धपोत के कई सौ मीटर के दायरे में नहीं आस सकती है. वो सिर्फ तभी आ सकती है जब उसके बारे में युद्धपोत को इपनी पूरी जानकारी दी. अगर कोई संदिग्ध बोट ऐसा नहीं करती तो दूरी से उसे उड़ाने के आदेश सुरक्षाकर्मियों को दे रखे हैं.

 

इस बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें पाकिस्तानी की जनता अपने सेना प्रमुख को आतंकी होने के नारे लगा रही है. इस वीडियो मे भीड़ सैनिकों की मौजूदगी में ही पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को ‘दहशतगर्द’ बता रही है. साथ ही सेना के दूसरे जनरल-कर्नल को भी ‘दहशतगर्द’ यानि आतंकी बता रही है. पाकिस्तानी सैनिक मूक दर्शक बने इन नारों को सुन रहे हैं.

 

पाकिस्तान में 25 जुलाई को आम चुनाव 

 

पाकिस्तान में आम चुनाव 25 जुलाई को है और इन चुनावों में पाकिस्तानी सेना के दखल की लगातार खबरें आ रही हैं. पाकिस्ताना सेना के करीब 3.71 लाख सैनिकों को चुनावी ड्यूटी में लगाया गया है. सेना के अधिकारियों को फर्स्ट क्लास मजिस्ट्रेट बनाया गया है. लेकिन पाकिस्तानी सेना किसी तरह आतंकियों को प्रायोजित करती है ये किसी से छिपा नहीं रहा है.

 

पाकिस्तानी सेना की मुजाहिद-ब्रिगेड हो या फिर बॉर्डर एक्शन टीम (बैट), सभी में आतंकियों की तैनाती होती है. बैट टीम लगातार एलओसी पर भारतीय सेना पर घात लगातकर हमला करती आई है. एलओसी पर पाकिस्तानी सेना की सरपरस्ती में ही आतंकियों के लांच पैड्स चलाए जाते हैं. इन आतंकियों की भारत में घुसपैठ के लिए ही पाकिस्तानी सेना एलओसी पर युद्धविराम का उल्लंघन करती है. पाकिस्तानी सेना के मुख्य प्रवक्ता, मेजर जनरल आसिफ कफूर अपने निजी ट्वीटर एकाउंट पर उस शख्स की तारीफ करते हैं जो भारत के राष्ट्रीय झंडे के ऊपर खड़े होकर फोटो खिंचवाता है और अपने जूते पर लपेटता है. लेकिन पाकिस्तानी सेना के इस घिनौने चेहरे को अब वहां की जनता भी जान गई है, इसीलिए वहां के जनरल-कर्नल तक को आतंकी होने के नारे लग रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.