छिन्दवाडा/ 19 मार्च 2018, राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली द्वारा विधिक सेवा आयोजन संबंधी न्यू मॉडूल अनुसार 18 मार्च को बिछुआ तहसील के अंतर्गत ग्राम खमारपानी में विधिक सेवा शिविर का आयोजन किया गया । उक्त शिविर में मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति  सुशील कुमार पालो एवं न्यायमूर्ति  अंजली पालो के मुख्य आतिथ्य के साथ उनके मार्गदर्शन में कार्यक्रम संपन्न किया गया । इस अवसर पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश तथा जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष  एल.डी.बौरासी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक  नीरज सोनी, सचिव  विजय सिंह कावछा, श्रीमती बौरासी, एस.डी.एम.  राजेश शाही, न्यायाधीशगण, अधिवक्ता, प्रशासनिक अधिकारी, समाजसेवी, पैरालीगल वॉलीन्टियर्स, ग्रामीणजन, हितग्राही आदि उपस्थित रहे ।

विधिक सेवा शिविर के संबंध में जानकारी देते हुये श्री पालो द्वारा जानकारी दी गई की राष्ट्रीय स्तर पर राष्ट्रीय वि‍धिक सेवा प्राधिकरण, प्रत्येक राज्य में राज्य वि‍धिक सेवा प्राधिकरण तथा जिले में जिला वि‍धिक सेवा प्राधिकरण तथा तहसील वि‍धिक सेवा समिति आदि के चार स्तर पर कार्य किया जाता है । उन्होंने विधिक सेवा शिविर का उद्देश्य तथा विधिक सहायता योजना आदि की विस्तार से जानकारी दी । ग्रामीणजनों को शिविर के माध्यम से होने वाली जागरूकता तथा योजनाओं से ग्रामीणों को वास्तविक रूप से लाभान्वित होना बताया । श्री पालो द्वारा लाडली लक्ष्मी योजना अंतर्गत 16 हितग्राहियों को स्वीकृति पत्र वितरित किये । 20 मृदा परीक्षण कार्ड, सभी प्रकार की पेंशन आदेश, वृध्दजनों को चश्मा, 25 विद्यार्थियों को सायकिल वितरण, दो प्रकरणों की स्वीकृति पत्र गौसंवर्धन योजना के अंतर्गत वितरित किये गये । शिविर स्तर पर शासन की विभिन्न विभागों द्वारा स्टॉलों का निरीक्षण किया गया । न्यायमूर्ति श्रीमती पालो ने कहा कि विधिक सेवा शिविर का उद्देश्य लोगों को  जागरूक करना तथा उन्हे सशक्त बनाना है जिससे ग्रामीणजन व शासन द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ प्राप्त कर सके । जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री बौरासी ने जानकारी दी कि विधिक सेवा शिविर के आयोजन हेतु ग्राम खमारपानी को विशेष रूप से चिन्हित किया गया था । इसके आस-पास के 45 से 50 गांवों की सूची तैयार कर एवं पैरालीगल वॉलेन्टियर्स को गांव का समूह आवंटित कर गांव-गांव जाकर ग्रामीणजनों से शासन की योजनाओं का लाभ प्राप्त करने संबंधी लगभग 1800 से अधिक आवेदन प्राप्त किये गये जिन्हे जिला प्राधिकरण के कार्यालय में पंजीबध्द कर शासन को भेजे गये । जिसमें से लगभग 600 व्यक्तियों को पात्र घोषित कर योजनाओं की स्वीकृति पत्र तैयार करवाये गये । ऐसे अन्य आवेदन जिसमें दस्तावेजों की कमी है उनकों भी प्रक्रिया में लिया गया है तथा जल्द ही ऐसे व्यक्तियों को योजनाओं की स्वीकृति प्रदान की जायेगी । उन्होंने यह भी बताया कि शिविर स्थल तक ग्रामीणों के आने के लिये बस व्यवस्था की गई थी । लगभग एक माह से पैरालीगल वॉलेन्टियर्स गांव-गांव जाकर लोगों को जागरूक कर रहे थे । जिला प्राधिकरण के सचिव द्वारा विधिक सेवा शिविर आयोजन के उद्देश्य के साथ विभिन्न चरणों में की गई तैयारियों के बारे में बताया । कार्यक्रम का संचालन जिला विधिक सहायता अधिकारी  सोमनाथ राय द्वारा किया गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.