श्रावण मास प्रारंभ होते ही पैदल यात्रियों का आना शुरू

अर्ध नारीश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में दर्शनार्थियों का तांता

रिमझिम बारिश के साथ संगीतमय शिवमहापुराण कथा आरंभ

जिला छिंदवाड़ा के मोहगांव हवेली / सौंसर
श्रावण मास प्रारंभ होते ही सुप्रसिद्ध अर्ध नारीश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर मोहगांव हवेली में दर्शनार्थियों का तांता लग गया हैं. पैदल जाने वाले कांवड़ियों का आवागमन विश्राम यहां हो रहा हैं. उसी प्रकार रिमझिम बारिश की फुहारों के बीच आज से नौ दिवसीय संगीतमयी शिव महापुराण कथा भी प्रारंभ हुई.
भद्रुशेष सेवा मंडल नागपुर का पैदल यात्री जत्था कल शाम अर्ध नारीश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर पहुंचा. इसमें सम्मिलित यात्रीयों ने हमारे संवाददाता को बताया कि, विगत 15 साल से प्रतिवर्ष गुरु पूर्णिमा की पंचमी तिथि को नागपुर से पचमढ़ी नागद्वारी हेतु भद्रुशेष सेवा मंडल की पैदल यात्रा प्रारंभ होकर नागपंचमी के पूर्व नागद्वार पचमढ़ी पहुंचती हैं. उन्होंने बताया कि, उनके गुरु स्व. चुन्नीलाल सारवे ने यह परंपरा 15 वर्ष पूर्व आरंभ की थी. जिसका निर्वाहन आज भी कर रहें हैं. अर्ध नारिश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर में रात्री विश्राम के पश्चात आज सुबह यह जत्था आगामी यात्रा के लिए रवाना हुवा. पैदल यात्रियों में भागीरथ बानते, सोनीराम तरोने, आनंदराव जाधव, नितिन प्रधान, किशोर कोलते, शुभम खरवडे, पंकज सहारे, आकाश तंबुले, नितिन केळझरकर आदी प्रमुख रुप हे सम्मिलित हैं.
श्रावण मास के अवसर पर आज से आचार्य राजुल पांडेय इनके मुखारविंद से नौ दिवसीय संगीतमयी शिव महापुराण कथा का श्रीगणेश हुआ. आज प्रथम दिन शिव महापुराण की शोभा यात्रा निकाली गई. शोभायात्रा अर्ध नारीश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर पहुंचने के पश्चात ग्रंथ पुजन कर शिव महापुराण कथा आरंभ हुई. नौ दिवसीय शिव महापुराण कथा के अंतर्गत प्रतिदिन प्रातः पूजन, संस्कृत पाठ एवं शिव अभिषेक पूजन होगा. दोपहर 1 से संध्या 5 बजे तक तथा शाम 7 से रात्री 10:30 बजे तक कथा व्यास आचार्य राजूल पाण्डेय इनके मुखारविंद से शिव महापुराण कथा का रसपान होगा. 3 अगस्त को शिव महापुराण कथा का समापन होगा.
नगर एवं क्षेत्र में झमाझम बारिश होने से किसानों के साथ साथ सभी के चेहरे पर खुशी छाई हैं. ज्ञातव्य हो कि, खेती में बुवाई होने के पश्चात बारीश न होने के कारण फसलें चौपट होने के कगार पर थी. साथ ही उमस एवं गर्मी से बिमारियों का प्रकोप फैल रहा था. चिंतीत क्षेत्र वासियों ने भगवान भोलेनाथ की शरण लेकर अच्छी वर्षा हेतु अर्ध नारीश्वर ज्योतिर्लिंग का 24 जुलाई को महा जलाभिषेक किया था. दो दिन से क्षेत्र में रिमझिम बारिश की फुहारों से सभी के चेहरों पर खुशी छाई हुई हैं.
सा.गोपाल वंजरी

96 thoughts on “पैदल यात्रा करने वालों का शुरू हुआ आना जाना”
  1. First of all I want to say fantastic blog! I had a quick question which I’d like to ask if you do not mind. I was interested to find out how you center yourself and clear your thoughts prior to writing. I’ve had a tough time clearing my thoughts in getting my thoughts out there. I truly do take pleasure in writing but it just seems like the first 10 to 15 minutes tend to be lost just trying to figure out how to begin. Any ideas or tips? Kudos!|

  2. Oh my goodness! Amazing article dude! Thank you, However I am encountering issues with your RSS. I don’t understand the reason why I am unable to join it. Is there anyone else having identical RSS issues? Anyone who knows the answer can you kindly respond? Thanx!!|

  3. I’m impressed, I must say. Rarely do I come across a blog that’s both equally educative and entertaining, and let me tell you, you’ve hit the nail on the head. The issue is something that not enough folks are speaking intelligently about. I am very happy that I stumbled across this in my search for something relating to this.|

Leave a Reply

Your email address will not be published.