भोपाल से रवि कुमार व महाकौशल से सतीश नागवंशी की रपट……………..

भोपाल   विगत 15 मई से चल रही ग्राम पंचायत रोजगार सहायक संगठन के आव्हान पर अनिश्चित कालीन कलमबंद ,काम बंद हड़ताल के बाद 4 जून से क्रमिक भूख हड़ताल से मैदानी इलाको के सभी कार्य ठप्प हो गये है जिन्हे सुचारु रूप से संचालित करने के लिए शासन ने ग्राम पंचायत के सचिवों को इनके समस्त दायित्वों का और ऑनलाइन किये जाने वाले कार्यों के लॉगिन आई डी और उनके पासवर्ड भी सचिवों को जरी कर दिए है

सचिवों में अधिकाँश लोगो को कंप्यूटर चलाना ही नहीं आता…………..

सनद रहे की सचिवों में अधिकाँश लोगो को कंप्यूटर चलना ही नहीं आता इनकी अधिकांश लोगो की सेक्षणीक योग्यता 10 या 12 वि है क्युकी इनकी भर्ती के समय योग्यता नहीं देखि गयी ग्राम सभा में हाथ उठाकर बहुमत सिद्ध कर लेने वाले कई नमूने भी सचिव बन गए थे इनकी धीमी गति से कार्य करने की क्ष मता के कारण ही शासन ने नए वर्जन के रूप में कंप्यूटर के ज्ञाता रोजगार सहायकों की भर्ती मेरिट आधार पर की थी और इन्हे सन 2013 में शासन ने सहायक सचिव भी अधिसूचित किया था फिर शुरू हुई सीनियर जूनियर की प्रतिस्पर्धा और मात्र 3200 रुपये के मानदेय में काम कर रहे थे बाद में 5000 मानदेय कर दिया गया इसके अलावा उनको सचिवों के भी बहुत हद तक काम सौंप दिया गए इन्हे गधों की भांति काम के बोझ तले खूब जमकर रेहटा गया विगत दिनों हुई सचिव संगठन की हड़ताल के दौरान एवं ग्राम उदयसे भारत उदय अभियान में भी खूब दिनरात एक कर इस अभियान को सफल बनाने में इनकी महत्ती भूमिका को देखते हुए तात्कालिक अवर मुख्य सचिव राधेश्याम जुलानिया ने 2000 रुपए एवं मुख्यमंत्री ने2000 रुपए का मानदेय में इजाफा किया था कुल मिलकर इन्हे आज की तारीख में इनका मानदेय 9000 रूपये दिया जा रहा पर बेतहाशा महंगाई और रोज रोज जनपद की बैठकों का दौर सहित प्रधानमंत्री आवास ,मुख्यमंत्री आवास ,असंगठित मजदुर योजना ,मनरेगा ,स्वच्छ भारत मिशन ,समग्र पोर्टल ,खाद्य सुरक्षा पात्रता पर्ची ,जन्म मृत्यु ,विवाह पंजीयन ,निर्वाचन सम्बंधित कार्य इसके अलावा समय समय पर सरपंच ,सचिव के फरमान भी मानने होते है नहीं तो राजनैतिक भेंट स्वरुप सेवा समाप्ति का पत्र भी थमा दिया जाता है

भोपाल मे रोजगार सहायकों के संघ की हुंकार रैली………………

इन सबके बीच अभी जो शासन ने आदेश जारी किये जाकर रोजगार सहायको के लोगों आई डी ,पासवर्ड सचिवों को जारी कर दिए जिससे कम्प्यूटर ,नेट सम्बन्धी कार्यों के मामले में कई नौसिखिये सचिव नेट कैफे के ऑपरेटरों के माध्यम से सम्पूर्ण मध्य प्रदेश में काम करवा रहे जो सार्वजनिक इलाकों में खुलेआम आई डी पासवर्ड का गलत इस्तेमाल है इससे पंचायतो की आंतरिक सुरक्षा पर सवालिया निशान लगना लाजिमी है ,  अब महंगाईके इस दौर में इतना मानदेय बढ़ाने के साथ साथ संविलियन ,नियमितीकरण की मांगो के लेकर यह संघ विगत एक माह से आंदोलन कर रहा है संगठन के विश्वस्त सूत्र बताते है की आंदोलन के बाद सरकार नहीं जागी तो 12 जून को हुंकार रैली भोपाल के नीलम पार्क में आयोजित की गई है 

Leave a Reply

Your email address will not be published.