नौकरी के पहले दिन 20 मील चलकर पहुंचा छात्र, मालिक ने गिफ्ट कर दी कार

नौकरी का पहला दिन हर किसी को नर्वस करता है वो भी तब जब आपका ऑफिस घर से काफी दूर हो। ऐसे में वक्त पर दफ्तर पहुंचने का दबाव होता है, क्या हो अगर ऐसे में आपके साथ ऐसी घटना हो जाए जो आपको डराने के लिए काफी हो। ऐसा ही हुआ अलबामा के रहने वाले एक छात्रा के साथ जिसे अगले ही दिन अपनी नई-नई नौकरी पर जाना था। इससे ठीक पहले रात में उसकी कार खराब हो गई।

डरे हुए छात्र को वल्टर कार को कोई रास्ता नहीं सूझा और उसने अपने दोस्तों के अलावा गर्लफ्रैंड की मदद मांगी लेकिन कुछ फायदा नहीं हुआ। आखिरकार उसने गूगल पर अपने घर से दफ्तर की दूरी सर्च की तो पाया कि वो कुल 20 मील दूर था। जब कोई रास्ता नहीं निकला तो वाल्टर ने तय किया कि वो चलकर दफ्तर जाएगा ताकि वक्त पर पहुंच सके। 20 मील चलने के लिए उसे आधी रात से ही अपना सफर शुरू करना था।

वाल्टर के अनुसार मैं वहां सुबह 8 बजे पहुंचना चाहता था। मैं चाहता था सबसे पहले पहुंची ताकि कंपनी को पता लगे कि मैं कितने डेडिकेटेड हूं। रातभर 14 मील चलने के बाद पेलहम में मुझे एक पुलिस अफसर ने रोका। सुबह चार बजे पुलिस वाले को जब वाल्टर की कहानी पता लगी तो उसने पहले वाल्टर को नाश्ता करवाया साथ ही कहा कि उसे लंच भी मिलेगा।

कुछ देर रुकने के बाद वाल्टर फिर चलने लगा और 4 मील चलने के बाद एक और पुलिस अफसर ने उसे रोक लिया। पुलिस वाले ने उसे पहचान लिया और फिर अपनी गाड़ी में वाल्टर को जैनी हैडन लेमी के घर छोड़ा। पुलिसवाले ने जब दोनों को वाल्टर की कहानी सुनाई तो उन्होंने वाल्टर से कुछ देर आराम करने के लिए कहा। लेमी, वाल्टर की पहली ग्राहक थी और कुछ देर आराम के साथ उसने अपनी कहानी बताई। जब तक उसके बाकी साथी काम करने आते वाल्टर ने बताया कि वो मरीन बनना चाहता था। लेकिन न्यू ओरलीयंस में रहने के दौरान कटरीना तूफान ने उनका घर छीन लिया जिसके बाद वो बर्मिंघम आ गए।

वाल्टर के जाने के बाद लेमी ने यह कहानी फेसबुक पर पोस्ट की जो कुछ ही देर में वायरल हो गई और कंपनी के सीईओ तक पहुंच गई। वाल्टर की कहानी पढ़कर सीईओ खुद वाल्टर से मिलने पहुंचे और अपनी फोर्ड एस्केप कार गिफ्ट कर दी। उनके अनुसार वाल्टर ने अपने काम से खुद को साबित किया है और कंपनी की इमेज और कल्चर को परिभाषित किया है।

इसके बाद लेमी ने गो फंड मी नाम से कैंपेन शुरू किया ताकि वाल्टर के लिए कुछ पैसे जुटा सके। लेमी के इस कैंपेन को खूब सपोर्ट मिला और एक ही दिन में उनके पास 8500 डॉलर एकत्रित हो गए जो 2000 डॉलर के लक्ष्य से कहीं ज्यादा थे।

कार के अनुसार उनकी कहानी वायरल होने के बाद जो प्यार मिला है वो अद्भुद है। उन्हें यकीन नहीं था कि 20 मील की वॉक किसी के लिए इतनी महत्वपूर्ण हो सकती है। मैं सबका को धन्यवाद कहना चाहता हूं।

75 thoughts on “नौकरी के पहले दिन 20 मील चलकर पहुंचा छात्र, मालिक ने गिफ्ट कर दी कार”
  1. I’ve been surfing online more than 3 hours today, yet I never found any interesting article like yours. It’s pretty worth enough for me. Personally, if all web owners and bloggers made good content as you did, the web will be much more useful than ever before.|

Leave a Reply

Your email address will not be published.