अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और रूस के प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन की सोमवार को फिनलैंड में मुलाकात होगी। दोनों नेताओं के बीच यह पहली शिखर वार्ता है। इसके लिए निष्पक्ष देश काे चुना गया है। इससे पहले दोनों नेता किसी सम्मेलन से इतर ही मिले हैं। बैठक के बाद संयुक्त बयान भी जारी होगा। इस मुलाकात से पहले ट्रम्प का एक और बयान विवादों में आ गया। उन्होंने हाल ही में जर्मनी को रूस का बंधक बताया था। रविवार रात उन्होंने कहा कि रूस, चीन और यूरोपीय संघ अमेरिका के दुश्मन हैं। माना जा रहा है कि रूस के खिलाफ इस बयान से ट्रम्प-पुतिन की द्विपक्षीय बातचीत के नतीजों पर असर पड़ सकता है।

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, ट्रम्प ने सीबीएस के ‘फेस द नेशन’ कार्यक्रम में कहा, “मैं समझता हूं कि हमारे कई दुश्मन हैं। यूरोपीय संघ दुश्मन है, वह व्यापार में हमारे लिए क्या करता है? रूस कुछ मायनों में दुश्मन है। चीन आर्थिक रूप से दुश्मन है। निश्चित ही वह दुश्मन है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वे बुरे हैं। इसका मतलब है कि वे प्रतिस्पर्धी हैं।”

एक्सपर्ट व्यू : भारत-रूस-चीन गठजोड़ को कमजोर करना चाहता है अमेरिका

माना जा रहा है कि इस बैठक के दौरान अमेरिका का सबसे ज्यादा जोर भारत, रूस और चीन के बीच ताकतवार होते गठजोड़ को कमजोर बानाने पर रहेगा। इस मुलाकात के और क्या हैं मायने यह जानने के लिए दैनिक भास्कर ने विदेश मामलों के जानकार रहीस सिंह से बातचीत की।

1) शक्ति संतुलन अपने पक्ष में करने की कोशिश: रहीस सिंह बताते हैं, “हाल ही में ट्रम्प के साथ हुई बैठक में नाटो विभाजित नजर आ रहा है। नाटो के आर्थिक रूप से सबसे ताकतवर देश जर्मनी पर पुतिन का खासा प्रभाव है। यूरोपियन यूनियन (ईयू) में मौजूद अमेरिका के पुराने सहयोगियों पर भी पुतिन का प्रभाव बढ़ रहा है। अगर ट्रम्प, पुतिन को साथ लेकर नहीं चलते, तो इससे वैश्विक शक्ति संतुलन रूस के पास चला जाएगा।”

2) भारत-रूस-चीन गठबंधन पर नजर : “अप्रैल में नरेंद्र मोदी की शी जिनपिंग और मई में पुतिन से अनौपचारिक मुलाकात हुई। इससे मॉस्को, बीजिंग और नई दिल्ली का ट्राइएंगल कुछ मजबूत हुआ। इससे अमेरिका परेशान है। ट्रम्प रूस से टकराव नहीं चाहते, क्योंकि पुतिन ने उन्हें चुनाव जिताने में मदद की थी। उनका मकसद ट्राइएंगल से रूस को अलग करना है। ट्रम्प का मानना है कि अगर इन तीन देशों का गुट मजबूत हुआ तो उनके लिए चुनौती बन जाएगा और यूरेशिया से दक्षिण एशिया तक उनके लिए दीवार खड़ी हो जाएगी।”

3) पूर्वी देशों से रिश्ते बना रहा रूस: रहीस सिंह कहते हैं, “नवंबर 2017 में भारत, जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका ने मनीला क्वाडिलेटरल संधि पर हस्ताक्षर किए थे। उसी दौर में पुतिन ने जापान की ओर कदम बढ़ाया और पिवट टू एशिया (एशिया की ओर) नाम की नीति बनाई। इसके जरिए रूस, जापान के पक्ष वाले पूर्वी एशिया के देशों की ओर बढ़ना चाहता है ताकि वह चीन से संतुलन बना सके। हाल ही में चीन और रूस ने रणनीति बनाकर अमेरिका-उत्तर कोरिया की वार्ता कराई। यहां रूस प्रभावी नजर आ रहा है। ऐसे में अमेरिका उसे अपने पाले में करना चाहता है।”

9,665 thoughts on “ट्रम्प ने पुतिन से आज होने वाली मुलाकात से पहले रूस, चीन और यूरोपीय संघ को दुश्मन बताया”
  1. Upwards the years, the sceptre at zpack have gone not at home of their headway to lend a hand in any temperament that they can. They also give every indication to have “by a hair’s breadth what I distress” whenever I go there. I would very recommend them to anyone looking object of a grand drugstore! And no, I am not coupled to any of them.

  2. The idiosyncrasy between http://www.azithromycintok.com and other pharmacies is end of day and day. By developing new systems, suggesting technique improvements, working momentarily with physicians and advocating proper for residents, Waltz greatly contributes to our excellent householder care. Every advantage is of the highest quality from categorize loosely precision to seamless billing, reactive fellow aid and predictable, able delivery. And their posologist consultants are exceptional, making them a straightforwardly partner of our organization.

  3. I ethical wanted to tell you that I am already doing more wisely with your envisage of woe by reason of the ivermectin dog wormer at walmart. Anybody scheme that I identify this is away my answer to what happened on the weekend. My husband fell in a cycling non-essential on Sunday and poor his collar bone. After four hours in Emerg at Agreeable Arch, he was sent composed with a sling and pain killers (inconsiderate narcotics), and a referral seeing that an Ortho specialist. The break is altogether injurious, although if it had pierced the film, he would possess had surgery right away. It inclination needfulness some nuts and bolts to certain it after healing and to strengthen/protect it in future. Craig is not a complainer in any case and has a lavish variation due to the fact that pain. He can’t even apprehend the doctor til Thursday, then surgery will be booked. The Ortho doc said the bones can wait til then. I suggest, the one should not receive to wait. Base for Craig of execution but, here is the brawny diversity payment my fervent response:rather than of crying, I got mad and took vim! We are present to make up one’s mind Craig’s children doc in Vancouver today to prove instead of quicker care.
    Amazing lots of wonderful tips.

  4. I well-founded wanted to thanks the under age woman Christine Cheng] in the 40 mg lasix too much this morning as a service to her good deed and understanding in finding and then giving to me the ‘hard-to-find’ Thyroid medication. Gratify discern how much I appreciated this. It is a lifesaver for me. Thank you identical much. PS: The chap who rang up the paper money was satisfactory too! Prime character service. You actually expressed this wonderfully!

  5. Ordered from them and sent in my doctors instruction anti parasite meds. Not only did they support what I ordered was put right but because I sent in my medication my society went over the UNMODIFIED day. Really quite a lot of amazing info!