Image result for piyush goyal pic

कल आएंगे कोयला मंत्री पियुष गोयल……….

छिंदवाड़ा और बैतूल जिले को देंगे चार खदानों की सौगात  पीयूष गोयल के नाम से छिंदवाड़ा। कोयला मंत्री, रेल मंत्री के साथ वित्त मंत्री का प्रभार संभाल रहे पीयूष गोयल 6 जुलाई शुक्रवार को छिंदवाड़ा आएंगे। इस दौरे पर कोयला मंत्री के तौर पर वे जिले को दो खदानों की सौगात देंगे, जिसमें शारदा और धनकशा का

कल आएंगे कोयला मंत्री, छिंदवाड़ा और बैतूल जिले को देंगे चार खदानों की सौगात

छिंदवाड़ा। कोयला मंत्री, रेल मंत्री के साथ वित्त मंत्री का प्रभार संभाल रहे पीयूष गोयल 6 जुलाई शुक्रवार को छिंदवाड़ा आएंगे। इस दौरे पर कोयला मंत्री के तौर पर वे जिले को दो खदानों की सौगात देंगे, जिसमें शारदा और धनकशा कोयला खदान शामिल हैं। इसके साथ ही बैतूल को भी गांधी ग्राम और तवा टू खदान की सौगात मिलेगी। चूंकि छिंदवाड़ा इन दिनों फोकस में है, यही वजह है कि कलेक्ट्रेट से वीडियो कांफ्रंेसिंग के जरिए त्रिपुरा से देवघर के बीच ट्रेन का शुभारंभ किया जाएगा। बुधवार को वेकोलि के एमडी राजीव रंजन मिश्रा और पीआरओ एसपी सिंह समेत तमाम अधिकारियों ने कार्यक्रम के तहत तैयारियों का जायजा लिया। इस क्रम में जिला कलेक्ट्रेट का भी दौरा किया। अधिकारियों ने कलेक्टर वेद प्रकाश और जिला पंचायत सीईओ रोहित सिंह से बातचीत की। कोयला खदान की सौगात देने के लिए शुक्रवार को कार्यक्रम होगा, जिसमें कोयला मंत्री के साथ मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और शहर के चुनिंदा गणमान्य नागरिक होंगे। कार्यक्रम व्यवस्थित हो सके इसलिए सीमित संख्या में लोगों को बुलाया गया है। गौरतलब है कि कोयला खदान को लेकर हमेशा ही जिले में सियासत होती रही है, ऐसे में चुनावी साल में खदान के जरिए लोगों को साधने की कवायद के तौर पर इसे देखा जा रहा है।

दौरे से पहले बढ़ी सक्रियता

रेल मंत्री, कोयला मंत्री और वित्त मंत्री का प्रभार देख रहे पीयूष गोयल के दौरे से पहले केंद्र सरकार के अधिकारियों की सक्रियता बढ़ गई है। मंगलवार को डीआरएम शोभना बंदोपाध्याय ने शहर का दौरा किया और वीडिया कांफे्रंसिंग की व्यवस्था का जायजा लिया। जिसके बाद बुधवार को यहां कोयला मंत्रालय के अधिकारी सक्रिय हुए। वेस्टर्न कोल्डफील्ड लिमिटेड के असिस्टेंट मैनेजर पीआर एसपी सिंह ने बताया कि तैयारियों का जायजा लिया जा रहा है।

कोयला खदान को लेकर होती रही है सियासत

कोयला खदान को लेकर जिले में हमेशा से ही सियासत होती रही है। पेंच कन्हान की कोयला खदान बंद होने की जानकारी मिलने पर कांग्रेस और भाजपा नेता सक्रिय हो गए। परासिया के पूर्व विधायक ताराचंद बावरिया ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात की थी, जिसके बाद 6 खदान बंद करने पर रोक लगी। अब नए सिरे से दो खदान शुरू होने से लोगों में उत्साह है, क्योंकि पेंच और कन्हान से न सिर्फ आर्थिक गतिविधि संचालित होती है, बल्कि दस हजार लोग प्रभावित होते हैं।

इनका कहना है

केंद्रीय मंत्री के कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इसे लेकर तैयारियां जारी हैं। अधिकारियों से भी मुलाकात की है।

रोहित सिंह, जिला पंचायत सीईओ

रेल मंत्री का दौरा कार्यक्रम

11.20 बजे – शहर में आगमन

11.30 बजे – होटल करन में खदान को लेकर कार्यक्रम

2 बजे – वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए रेल का लोकार्पण

2.30 बजे – शहर से प्रस्थान

शारदा खदान को लेकर कोयलांचल में खुशी

जुन्नाारदेव। कन्हान क्षेत्र की शारदा खदान खुलने का कोयलांचल के निवासियों को बेसब्री से इंतजार है। गौरतलब है कि क्षेत्र में शारदा, हर्राडोल, भाखरा खदानें स्वीकृति के बाद भी अटकी हुई थी। अब शारदा खदान के खुलने का रास्ता साफ हो चुका है। कोयला खदान से जुड़े श्रमिक संगठनों के अनुसार 6 जुलाई को कोयला मंत्री द्वारा छिंदवाड़ा से पेंच की धनकसा खदान व कन्हान क्षेत्र की शारदा खदान का मोहरा बनाने के निर्माण कार्य की प्रक्रिया का शुभारंभ किया जाएगा। वहीं पाथाखेड़ा की तवा एवं गांधीग्राम खदान का भूमिपूजन भी छिंदवाड़ा से ही किया जाएगा। नागपुर केसिंग एंड संस को मोहरा बनाने का ठेका दिया गया है।

शारदा प्रोजेक्ट एक नजर में

वर्ष 2007 से क्षेत्र के व्यापारी पिछड़ते व्यापार व बंद होती खदानों के बाद से शारदा के प्रारंभ होने की राह ताक रहे हैं। इसके अलावा प्रस्तावित हर्राडोल व भाखरा परियोजना कोल इंडिया की महत्वपूर्ण परियोजनाएं हैं। जिनके भविष्य में खुलने का इंतजार कोयलांचलवासियों को है।

शारदा खदान

आरक्षित कोयला – 7.54 मिलियन टन

खदान का भविष्य – 28 वर्ष

कोयले का स्तर -एफ ग्रेड (सबसे निम्न स्तर)

मानव श्रम (मैन पावर)-425 कर्मचारी

भूमि पूजन – 2007 उमा भारती द्वारा

फारेस्ट क्लियरेंस- प्राप्त

Leave a Reply

Your email address will not be published.