एडिना कॉलेज के छात्रों के अनोखे प्रोडक्ट; अब इनका पेटेंट कराकर मार्केट में लॉन्च करने की तैयारीछात्रों ने ऐसा रोबोट बनाया, जो लीकेज सुधारेगा और बताएगा कि पाइप में क्या गड़बड़ है, प्लास्टिक फ्यूल से बाइक भी चलाई

9 स्टूडेंट ने मिलकर बनाए 6 प्रोडक्ट, जो लोगों के कामों को बेहद सरल बनाएंगे

सागर.थ्री इडियट्स फिल्म का कैरेक्टर फुनसुख वांगड़ू सुर्खियों से दूर रहकर एक से एक नए और अनोखे प्रयोग करता रहता था। ऐसे ही एक नहीं, बल्कि 9 फुनसुख वांगड़ू सागर में हैं। सागर के कुछ छात्रों ने पढ़ाई के साथ-साथ ऐसे अविष्कार किए हैं, जो लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी में खासे मददगार साबित हो सकते हैं। एडिना कॉलेज में पढ़ने वाले युवाओं ने ऐसा रोबोट बनाया है, जो आपके घर में पानी का लीकेज तक सुधार देगा। साथ ही ये भी देख लेगा कि पाइप में लीकेज कहां पर है, इसमें कुछ फंसा तो नहीं है।

पॉलिथीन से बाइक चलाने का तरीका निकाला…इसके अलावा इन्होंने ऐसी साइकिल भी बनाई है, जिसके पैडल चलाने से घर की मिक्सी और वॉशिंग मशीन खुद-ब-खुद चलने लगेगी। युवाओं का कॉन्सेप्ट है- सेहत के साथ घर का काम। प्रोजेक्ट को बनाने के पीछे का मकसद कम खर्च में आम लोगों को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराना है।

एडिना कॉलेज के सुधांशु दुबे, ब्रिजेश रैकवार, अभिषेक पाठक, अभिषेक जैन, नरेंद्र पटेल, पवन पटेल, शुभम विश्वकर्मा, रामचरण विश्वकर्मा और सुरेंद्र सोनी ने मिलकर ये प्रोजेक्ट तैयार किए हैं। हर प्रोडक्ट तैयार करने के बाद उसे मल्टी-लेयर टेस्ट से गुजारा गया ताकि ये पता चल सके कि ये इस्तेमाल के लिए पूरी तरह तैयार हैं या नहीं। कॉलेज के प्रधानाचार्य आरएस पाण्डेय और एचओडी विकास मुखारया के मार्गदर्शन में तैयार इन प्रोडक्ट को अब पेटेंट कराने की तैयारियां की जा रही हैं। ताकि इन्हें मार्केट में भी उतारा जा सके।

पाइप इंस्पेक्शन रोबोट:इस रोबोट को बड़ी पाइन पाइन का परीक्षण करने के लिए बनाया गया है। इसमें एक कैमरा लगाया गया है। रोबोट पाइप के अंदर लगी मिट्टी या कीचड़ को कैमरे के जरिए स्क्रीन पर बताएगा। हालांकि इस रोबोट में अभी हाथ नहीं लगाए गए हैं। रोबोट पाइप लाइन के लीकेज और अन्य परेशानियों का खुद सुधार कर सके, इसके लिए रोबोट में हाथ लगाने का काम किया जा रहा है।
प्लॉस्टिक फ्यूल…पॉलिथीन को चैंबर में डालकर इसे हीट करके एक तरल पदार्थ बनाया गया। जिसको लैब में जांचकर एक बाइक के इंजन में डाला गया। इस फ्यूल से बाइक का परफॉरमेंस सामान्य पेट्रोल की तरह रहा। लेकिन कार्बन के ज्यादा बनने से इसमें इंजन के सीज होने का खतरा है। इसके लिए प्रोजेक्ट में एक और सुधार किया जा रहा है, जिससे बाइक में जमे कार्बन का उपयोग प्रिंटर में किया जा सकता है।

मिक्सी एंड वॉशिंग मशीन:यह एक ऐसी मशीन है जिसे साइकिल के दोनों पैडल से जोड़ा गया है। एक ओर से साइकल चलाने पर मिक्सी काम करेगी। वहीं दूसरी ओर से चलाने पर यह वॉशिंग मशीन की तरह काम करेगी।

बच्चों का सेंसर झूला…यह झूला छोटे बच्चों के लिए बनाया गया है। जो उनके रोने की आवाज को डिटेक्ट करके ऑटोमैटिक चलने लगेगा। इसके लिए झूले में एक सेंसर और मोटर लगाई गई है।

मल्टी ब्लेड ग्रास कटर…इस ग्रास कटर में टू स्ट्रोक इंजन लगाया गया है। यह एक लीटर पेट्रोल में करीब 1200 स्क्वायर फीट के मैदान की घास काट सकेगा। इसमें कई तरह के ब्लेड लगाए हैं, इससे इच्छानुसार घास काटी जा सकेगी।

फोर वे आरी कटर…यह मशीन लकड़ी और लोहे की रॉड काटने में मददगार होगी। इसके जरिए चार लोगों की बजाय एक ही आदमी लकड़ी और लोहे की रॉड काट सकेगा। इससे पावर और पैसा दोनों ही बचेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.