आज मध्यप्रदेश कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के द्वारा दिल्ली जाकर  चुनाव आयोग से मध्यप्रदेश में 60 लाख फर्जी वोटरों की शिकायत की गई। साथ ही साथ इस मामले में निष्पक्ष जांच कर नई मतदाता सूचि जारी करने की बात की गई। इस अवसर पर कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष कमलनाथ, गुना से सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया, पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह और राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा भी मौजूद थे । कांग्रेस की शिकायत के तुरंत बाद चुनाव आयोग भी सख्ती से कार्यवाही के मूड में है। चुनाव आयोग ने सख्ती दिखाते हुए मतदाता सूचियो की जांच के आदेश जारी कर दिए है। इसके साथ ही निर्वाचन आयोग ने फर्जी मतदाता सूचियों की जांच के लिए एक जांच दल गठित किया है। यह जांच दल विधानसभा क्षेत्रों में फर्जी मतदाताओं की पहचान के लिए जांच करेगा और 4 दिन में चुनाव आयोग को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगा। इसके अलावा चुनाव आयोग ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को भी इस संबंध में पत्र लिखा है। पत्र के माध्यम से आयोग ने कहा है कि भोजपुर, नरेला, सिवनी मालवा और होशंगाबाद विधानसभा की मतदाता सूचियो की जांच की जाए।

निदित होवे कि रविवार को मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमल नाथ के नेतृत्व में पार्टी नेता निर्वाचन आयोग के पास गए हुए थे और फर्जी मतदाताओं को लेकर शिकायत की। उनका कहना है कि राज्य में 60 लाख से ज्यादा फर्जी मतदाताओं के नाम मतदातासूची में दर्ज किए गए हैं। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि ये नाम जानबूझकर दर्ज किए गए हैं और उसके पीछे भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का हाथ है। इस मामले में चुनाव आयोग ने संज्ञान लेते हुए जांच कमेटी गठित कर जांच के आदेश दिए है

Leave a Reply

Your email address will not be published.