विज्ञान की डोर तर्क से बंधी है, जबकि आस्था की डोर विश्वास से….
वैज्ञानिक मंदिर के पुजारी को चुनौती दे रहे थे कि वो बर्तन को खाली करें और उसमें नए सिरे से नदी का पानी भरें. तभी ये साफ हो पाएगा कि दीपक वाकई पानी से जल रहा है या नहीं.
जलते हुए दीपक को देखकर हिंगलाज माता मंदिर के कर्मचारियों की तसल्ली बढ़ चुकी थी लेकिन  टीम को अपने सवाल का जवाब मिल चुका था कि चमत्कार नदी के पानी में नहीं है. दरअसल कहानी कुछ और ही है.

हालांकि चमत्कार की ये पहेली अब भी इस दीपक और देवी की महिमा के बीच उलझी हुई थी. घंटों की मशक्कत के बाद टीम ने विज्ञान के दो जानकारों को बुलाया और फैसला किया कि आस्था की इस कहानी को अब विज्ञान के नज़रिए से सुलझाएंगे. जलते हुए दीपक के रहस्य को विज्ञान की कसौटी पर जांचने के लिए टीम के साथ रुचिका और आयुष हैं, जो इस बात की वैज्ञानिक पड़ताल करेंगे कि आखिर कैसे ये चमत्कार हो सकता है. विज्ञान और आस्था में टकराव की जमीन तैयार होने लगी.
परीक्षण के लिए विशेषज्ञों ने दो दीपक तैयार किए. पहले दीये में बाहर का तेल डाला और दूसरे दीपक में उस पानी को भरा गया, जिससे मंदिर की ज्योत जल रही है. वैज्ञानिकों ने दोनों तरह के दीपक में काली सिंध नदी का पानी डाला. इस पड़ताल के नतीजे ने वैज्ञानकों को भी उलझा दिया क्योंकि मंदिर में रखे बर्तन में नदी का पानी पूरी तरह घुल रहा था.

जबकि बाहर से लाए गए दीये में ये पानी बिल्कुल नहीं घुला यानी तेल और पानी की अलग-अलग परतें साफ दिखाई दे रही थीं. ये पूरा मामला अब विज्ञान की समझ के भी बाहर था. जलते हुए दीपक की पहेली और उलझ गई. मतलब साफ था कि पहेली मंदिर में मौजूद इस बर्तन में छिपी थी. जिसमें बाहर से डाला गया पानी बार-बार घुल रहा है यानी सारा खेल उस पानी में है, जो मंदिर के दीपक में मौजूद है.
वैज्ञानिक मंदिर के पुजारी को चुनौती दे रहे थे कि वो बर्तन को खाली करें और उसमें नए सिरे से नदी का पानी भरें. तभी ये साफ होगा कि दीपक वाकई पानी से जल रहा है या नहीं. लेकिन मंदिर के पुजारी आस्था का हवाला देकर इस पड़ताल से इंकार कर दिया. विज्ञान के जानकार बार-बार मंदिर के उस बर्तन को खाली करने की गुजारिश करते रहे लेकिन पुजारी इस प्रयोग के लिए कतई तैयार नहीं हुए.

वैज्ञानिकों के मुताबिक मंदिर में होने वाली घटना, कोई चमत्कार नहीं बल्कि विज्ञान का एक मामूली सा सिद्धांत है. वो मानते हैं कि मंदिर के बर्तन में पानी के साथ-साथ तेल भी मिलाया गया है. विज्ञान के नियम कहते हैं कि पानी का घनत्व तेल से ज्यादा होता है और अगर किसी बर्तन में तेल और पानी को एक साथ मिलाया जाए, तो घनत्व ज्यादा होने के कारण पानी नीचे चला जाएगा और तेल पानी की ऊपरी सतह पर तैरता रहेगा.

वैज्ञानिकों के मुताबिक कुछ ऐसा ही इस मंदिर में भी होता है. बर्तन में पानी और तेल साथ-साथ मिलाया गया है. पानी बर्तन के नीचे चला जाता है और तेल की परतें ऊपरी सतह पर आ जाती हैं. जब तक थाली में तेल मौजूद रहता है, ज्योत जलती रहती है. यानी विज्ञान की डोर तर्क से बंधी है और आस्था की डोर विश्वास से. ऐसे में आपको कौन सी डोर थामनी है ये आपको खुद ही तय करना है.

279 thoughts on “चमत्कार पानी से जलता दीपक”
  1. I love what you guys are usually up too. This sort of clever work and reporting! Keep up the wonderful works guys I’ve incorporated you guys to my blogroll.|

  2. Hi there to every body, it’s my first pay a quick visit of this blog; this webpage includes remarkable and truly fine stuff designed for readers.|

  3. I’m gone to inform my little brother, that he should also pay a visit this web site on regular basis to obtain updated from most recent news update.|

  4. Aw, this was an extremely nice post. Finding the time and actual effort to generate a top notch article… but what can I say… I procrastinate a lot and don’t manage to get nearly anything done.|

  5. Does your website have a contact page? I’m having a tough time locating it but, I’d like to shoot you an e-mail. I’ve got some ideas for your blog you might be interested in hearing. Either way, great blog and I look forward to seeing it develop over time.|

  6. I don’t even understand how I finished up here, but I believed this publish used to be good. I do not understand who you’re but certainly you are going to a famous blogger should you aren’t already. Cheers!|

  7. you’re in reality a just right webmaster. The website loading velocity is amazing. It seems that you’re doing any unique trick. Furthermore, The contents are masterwork. you have performed a fantastic task on this matter!|

  8. I’m curious to find out what blog platform you happen to be utilizing? I’m having some minor security problems with my latest blog and I would like to find something more secure. Do you have any solutions?|

  9. Greetings from Idaho! I’m bored to tears at work so I decided to check out your website on my iphone during lunch break. I really like the info you present here and can’t wait to take a look when I get home. I’m shocked at how quick your blog loaded on my cell phone .. I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyways, awesome site!|

  10. Woah! I’m really digging the template/theme of this site. It’s simple, yet effective. A lot of times it’s difficult to get that “perfect balance” between superb usability and appearance. I must say you’ve done a amazing job with this. Also, the blog loads super fast for me on Opera. Outstanding Blog!|

  11. Please let me know if you’re looking for a writer for your weblog. You have some really good articles and I think I would be a good asset. If you ever want to take some of the load off, I’d love to write some articles for your blog in exchange for a link back to mine. Please shoot me an email if interested. Thanks!|

  12. Wow that was strange. I just wrote an extremely long comment but after I clicked submit my comment didn’t show up. Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyhow, just wanted to say fantastic blog!|

  13. Do you have a spam problem on this website; I also am a blogger, and I was curious about your situation; we have created some nice methods and we are looking to trade techniques with other folks, be sure to shoot me an email if interested.|

  14. Good day very cool web site!! Man .. Beautiful .. Superb .. I’ll bookmark your site and take the feeds also? I’m glad to find numerous useful information here within the put up, we need work out extra techniques on this regard, thanks for sharing. . . . . .|

  15. Thanks for your marvelous posting! I truly enjoyed reading it, you’re a great author. I will remember to bookmark your blog and definitely will come back down the road. I want to encourage you continue your great work, have a nice afternoon!|

  16. Hello, Neat post. There is a problem with your website in web explorer, might check this? IE nonetheless is the marketplace leader and a big part of people will miss your excellent writing due to this problem.|

Leave a Reply

Your email address will not be published.