गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के प्रदेश महासचिव ने दिया इस्तीफा ।
छिंदवाड़ा । गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के कद्दावर नेता रहे सतीश नागवंशी ने अपने पद और गोंगपा की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया है ,राष्ट्रीय अध्यक्ष को संबोधित पत्र में श्री नागवंशी ने कहा है कि वह प्राथमिक सदस्यता से इस कारण इस्तीफा दे रहे हैं क्योंकि वह अपने परिवार को समय नहीं दे पा रहे थे और स्वास्थ्य कारणों से भी वह इस्तीफा दे रहे हैं ।
सूत्रों का कहना है कि गोंडवाना गणतंत्र पार्टी में प्रदेश अध्यक्ष बदलने के साथ ही विगत कुछ माह से गैर आदिवासी नेताओं की उपेक्षा हो रही थी ,इससे श्री नागवंशी दुःखी थे ज्ञात होवे कि नागवंशी जैसे कद्दावर नेता के पार्टी छोड़ने से पार्टी को भारी नुकसान होना तय है ,सतीश नागवंशी से दूरभाष पर चर्चा करने के दौरान उनका मोबाइल नंबर बन्द आया इस कारण उनका पक्ष नहीं जान सके बहरहाल उनके कट्टर समर्थकों की लाइन भी बहुत लंबी है ,कयास लगाए जा रहे हैं कि जबलपुर संभाग के छिंदवाड़ा, मण्डला,नरसिंहपुर ,सिवनी ,बालाघाट जिले से हजारों कार्यकर्ता उनके समर्थन में इस्तीफा दे सकते हैं ।

ज्ञात होवे की वह परासिया विधानसभा से 2018 में गोंगपा के उम्मीदवार बनाये गए थे उसके बाद वह सन 2019 में छिंदवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ भी चुनाव मैदान में थे इसी दौरान उन्होंने प्रत्याशी रहते हुए पार्टी के संस्थापक दादा हीरासिंह मरकाम के आदेश पर कमलनाथ को समर्थन दे दिया था।

बताया जाता है कि उस दौरान श्री नागवंशी पर कांग्रेस और कमलनाथ से सांठगांठ के आरोप भी लगे लेकिन उन्होंने उस समय इन आरोपों को राजनीतिक द्वेष से प्रेरित बताया था और उस दौरान भी उन्होंने गुस्से में आकर इस्तीफा दे दिया था ,लेकिन दादा मारकाम के निधन के बाद नागवंशी पुनः गोंगपा में तेजी से सक्रिय हो गए और मरणसन्न पड़े संगठन को छिंदवाड़ा में जीवित किया दिन रात मेहनत कर उन्होंने पार्टी संगठन को जीवित किया जिला के बाहर भी वह सतत सक्रिय भूमिका निभा रहे थे ,यही कारण था कि उनके विरोधी खेमे ने गुटबाजी को पनपने दिया और उनको गैर आदिवासी समुदाय के होने के कारण उपेक्षित करना शुरू कर दिया इसी से आहत होकर उन्होंने इस्तीफा दे दिया ।

इनका कहना है……
*मुझे इस मामले की कोई जानकारी नहीं है सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करने के बाद ही कुछ बोल पाऊंगा*
*तुलेश्वर मरकाम*
*राष्ट्रीय अध्यक्ष गोंडवानागणतंत्र पार्टी*