मध्य प्रदेश में चुनावी चौसर बिछ चुकी है और दोनों ही मुख्य राजनीतिक दल बीजेपी और कांग्रेस के तैयारियां जोरों पर हैं…..

केंद्रीय पर्यवेक्षकों का व्यवहार ठीक नहीं, कर रहे हैं दादागिरी- कमलनाथ

मध्य प्रदेश में चुनावी चौसर बिछ चुकी है और दोनों ही मुख्य राजनीतिक दल बीजेपी और कांग्रेस के तैयारियां जोरों पर हैं. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी द्वारा चुनाव की तैयारी करने आई केंद्रीय पर्यवेक्षकों की टीम को लेकर मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने बड़ा बयान दिया है. कमलनाथ ने कहा कि कुछ केंद्रीय पर्यवेक्षकों का व्यवहार ठीक नहीं है. वे क्षेत्र में जाकर दादागिरी कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि केंद्रीय पर्यवेक्षकों के व्यवहार को लेकर कांग्रेस पार्टी के कई नेताओं ने कमलनाथ से आपत्ति दर्ज की थी. उम्मीदवारों की खुद को सर्वोच्च साबित करने की होड़ में ये पर्यवेक्षक दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं. टिकटों को लेकर शुरू हुई इस खींचतान के चलते अब गुटीय राजनीति की कलई भी खुलने लगी है.

पर्यवेक्षकों से इस विषय पर करूंगा बात -कमलनाथ
कमलनाथ ने कहा कि कुछ केंद्रीय पर्यवेक्षकों का व्यवहार ठीक नहीं है. वे क्षेत्र में जाकर दादागिरी करते हैं. आपको बता दें कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी द्वारा मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षकों की एक टीम राज्य में भेजी गई है. ये टीम ही उम्मीदवारों की लोकप्रियता और जीत की संभावना जैसे कारणों को देखते हुए कांग्रेस आलाकमान को टिकट देने की सिफारिश करती है. कमलनाथ ने मीडिया से बातचीत में कहा कि कांग्रेस आलाकमान द्वारा भेजी गई केंद्रीय पर्यवेक्षकों की टीम के कुछ सदस्यों का व्यवहार ठीक नहीं है. ये सदस्य क्षेत्र में जाकर दादागिरी कर रहे हैं. कमलनाथ ने कहा कि मैं सभी पर्यवेक्षको से मिलूंगा और इस विषय पर बात करूंगा. अगर पर्यवेक्षकों के व्यवहार में सुधार नहीं आता है तो, इन पर्यवेक्षकों को बदलने के लिए पार्टी आलाकमान से बात की जाएगी. बीजेपी कर रही है धनबल का प्रयोग
वहीं, कांग्रेस सूत्रों की मानें तो, कमलनाथ हाल ही में प्रदेश कार्यकारिणी की घोषणा में कुछ लोगों के नामों से भी नाराज हैं. आपको बता दें कि कांग्रेस आलाकमान की ओर से जारी पत्र में 19 उपाध्यक्ष, 25 महासचिव और 40 सचिव बनाए गए हैं. इनमें से कई नाम ऐसे भी हैं जिन पर कांग्रेस की कार्यकारिणी ने कई बार पुनर्विचार करने के बाद उन्हें हटाया गया है. पीसीसी चीफ कमलनाथ ने बीजेपी की ग्राम चौपाल पर कहा कि जनता ने बीजेपी को पूरी तरह से नकार दिया है. बीजेपी का जनाधार खो चुका है, जिसके चलते बीजेपी धनबल की मदद से लोगों को अपनी ओर आकर्षित करने का प्रयास कर रहे हैं.

27 thoughts on “केंद्रीय पर्यवेक्षकों का व्यवहार ठीक नहीं, कर रहे हैं दादागिरी- कमलनाथ”

Leave a Reply

Your email address will not be published.