जी हां छिंदवाड़ा जिला मध्यप्रदेश का सबसे शांतप्रिय जिलों में से एक गिना जाता रहा है सूत्रों ने जानकारी दी है कि  कुछ हीरो पंती ताक़तों की वजह से फिजा बिगड़ सी गई है और बड़ी मछ्ली छोटी मछली को खा रही है इस हिसाब से बड़ी मछली बच जाती है और छोटी मछली पकड़ ली जाती है  ।

सूत्रों ने बताया कि कहने का आशय यह है कि कोयलांचल में कौनसा सफेद पोश के कितने डम्पर अवैध खनन, कोयला की ढुलाई कर रहे हैं यह बात एस पी ,डी एस पी ,टी आई तहसीलदार से लेकर सब जानते हैं जिसमें डब्ल्यू. सी. एल. प्रबंधन, सी .आई .एस. एफ.सबकी निगाहें करम भी बराबर मात्रा में ही होती हैं ।

इसी कारण प्रशासन बड़े 1 तस्करों को पकड़ने की अपेक्षा  10 गरीबों को पकड़कर जेल में डाल देता है ऐसा ही कुछ वाक्या कोयलांचल में चल रहा है जहां के नए नवेला थानेदार सड़क किनारे पड़े कोयला बीन रहे बुजुर्ग, महिला को  मारपीट कर दहशत फैलाने का काम कर रहे हैं जबकि ओवर लोड डम्परों पर कोई नकेल कसने की बात नहीं हो रही है।

बताया जाता है कि इसी बात को लेकर लगभग 80 महिलाएं एस. पी. गौरव तिवरि के पास गए जिस पर साहब महिलाओं की बात सुनने की जगह और महिलाओं के ही ऊपर भड़क गए कहने लगे कि तुम गैर कानूनी तौर पर काम करते हो भागो यहां से नहीं तो मामला दर्ज करवा देंगे साहब ने उनकी एक न सुनि

Leave a Reply

Your email address will not be published.