5 जिलों में आवारा पशुओं के रहने के लिए शेल्टर होम्स खोले जाएंगे. इसके लिए सरकार ने 7.61 करोड़ रुपए स्वीकृत किए हैं.आवारा पशुओं को मिलेगा आशियाना, 5 जिलों में खुलेंगे शेल्टर होम्स, 7.61 करोड़ स्वीकृत

 उत्तर प्रदेश सरकार ने कान्हा पशु आश्रय योजना के तहत 5 जनपदों के विभिन्न नगर निकायों में शेल्टर होम्स (कांजी हाउस) बनाए जाने के लिए 7 करोड़ 61 लाख 55 हजार रुपए दूसरी किस्त के रूप में स्वीकृत किए हैं. नगर विकास विभाग द्वारा जारी शासनादेश में कहा गया है कि इस योजना के तहत कुल 1181.55 लाख रुपये का प्रावधान किया गया था, जिसमें 4.20 करोड़ रुपये पूर्व में जारी किए जा चुके हैं. बाकी धनराशि अब स्वीकृत की गई है.

जनपद कासगंज के भरगैन नगर पंचायत के लिए 110.54 लाख रुपए, ललितपुर के तालबहेट के लिए 171.60 लाख रुपए, बदायूं के रूपायन के लिए 129.61 लाख रुपए, गोरखपुर के बड़हलगंज के लिए 177.42 लाख रुपए और शामली के नगर पंचायत ऊन के लिए 172.38 लाख रुपए स्वीकृत किए गए हैं.

सीएम योगी के सत्ता में आने के बाद अवैध बूचड़खाने बंद कर दिए गए. बूचड़खाने बंद कर दिए जाने की वजह से शहरों में आवार पशुओं की वजह से बहुत ज्यादा समस्याएं होती हैं. आवारा पशुओं ने कई लोगों की जान भी ले ली है. दूसरी तरफ, इनकी वजह से किसानों को भी बहुत ज्यादा नुकसान हो रहा है. आवारा पशु फसलों को नुकसान पहुंचाते हैं. ऐसे में तमाम समस्याओं से निजात पाने के लिए सरकार ने आवार पशुओं के लिए कांजी हाउस खोलने का फैसला किया था.कांजी हाउस खोलने को लेकर पशुधन मंत्री प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल का कहना है कि कांजी हाउस खुल जाने से किसानों की फसलों को नुकसान नहीं पहुंचेगा. साथ ही शहरी क्षेत्रों में भी छुट्टा घूमने वाले पशुओं के कारण होने वाले हादसे नहीं होंगे. पशुओं को शहरों से निकालना क्रूरता भरा कदम होगा. इसलिए, एनीमल वेलफेयर बोर्ड के सुझाव पर सभी शहरों में कांजी हाउस खोलने का फैसला लिया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.