हाल ही में संम्पन्न हुये त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के बाद में स्थायी समिति का गठन होना है इसको लेकर चुने गए जिला पंचायत एवं जनपद पंचायत के नवनिर्वाचित सदस्यों की लॉबिंग शुरू हो गई है जो अध्यक्ष ,उपाध्यक्ष बनने से चूक गए वो अब सोच रहे हैं कि निर्माण समिति का सभापति बन जाएं

कुछ निर्माण सभापति तो कुछ वन समिति की ख्वाहिश रख रहे हैं ,इस तरह से नेता जुगाड़ की जुगत में भिड़े हैं ।