नीतीश कुमार की पार्टी के भीतर भी अंतर्कलह की खबरें आ रही हैं। बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार की विधायक बीमा भारती ने बगावती सुर अपना लिया है। बीमा मंत्री पद नहीं मिलने से नाराज चल रही हैं।
बिहार में महागठबंधन की नई सरकार बनते ही अब भाजपा के नेता नीतीश कुमार के मंत्रियों की कुंडली खंगालने लगे हैं। इस लिस्ट में नए कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह और नए कृषि मंत्री सुधाकर सिंह का नाम सबसे ऊपर है। इतना ही नहीं अब नीतीश कुमार की पार्टी के भीतर भी अंतर्कलह की खबरें आ रही हैं। बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार की विधायक बीमा भारती ने बगावती सुर अपना लिया है। बीमा मंत्री पद नहीं मिलने से नाराज चल रही हैं। वहीं मीडिया में इन मामले को तूल पकड़ता देख मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने खुद सामने आकर जवाब दिया है।

\नीतीश ने बीमा भारती को फटकारा
बीमा भारती की नाराजगी पर जवाब देते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि मैंने बीमा भारती को भी 2014 और 2019 में मौका दिया था और इस बार दिया। यह संभव नहीं है कि पार्टी में जितने लोग हैं वो सभी मंत्री बनें। मुझे आश्चर्य हुआ है कि इस तरह से कौन बोलता है? लेशी सिंह को जो कुछ भी दिया गया है वो बिल्कुल ठीक है। अगर पार्टी से कोई इस तरह का बयान देता है तो पहले समझाया जाएगा और पूछताछ की जाएगी लेकिन अगर किसी को इधर-उधर का मन है तो वो अपना सोचें। बीमा भारती को जरूर कोई उकसा रहा है इसलिए ऐसा बयान दे रही है।

भाजपा वाले को कोई काम नहीं बचा: तेजस्वी
वहीं बिहार में ‘जंगल राज’ शुरू करने के भाजपा के आरोप पर बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव ने पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा के पास हमें बदनाम करने के अलावा और कोई काम नहीं है। जिस दिन से हमने राज्य के लोगों को 10 लाख नौकरियां देने की घोषणा की है, वे असहज हो गए हैं। वहीं तेजस्वी ने कार्तिकेय सिंह के ऊपर लगे आरोपों का जवाब देते हुए कहा कि भाजपा बेबुनियाद आरोप लगा रही है। कार्तिकेय सिंह बिल्कुल निर्दोष हैं।